सऊदी अरब में मिला प्राचीन मंदिर, मिली 8000 साल पुरानी सभ्यता ! सर्वे में मिले धार्मिक शिलालेख, अल-फाओ में

सऊदी अरब में मिला प्राचीन मंदिर, मिली 8000 साल पुरानी सभ्यता ! सर्वे में मिले धार्मिक शिलालेख, अल-फाओ में जारी रहेगा रिसर्च

सऊदी अरब के एक रेगिस्तान में एक सर्वे के दौरान एक मंदिर और वेदी मिली है. यहां 8 हजार साल पुरानी मानव बस्तियों के अवशेष भी मिले हैं। यह अल-फाओ में खोजा गया था, जो कभी किंडा साम्राज्य की राजधानी थी।

सऊदी अरब में मिला प्राचीन मंदिर मिली 8000 साल पुरानी सभ्यता

अल-फ़ॉ अल-रूब अल-खली (द एम्प्टी क्वार्टर) नामक रेगिस्तान के किनारे पर रहता था। यह वादी अल-दावसीर से 100 किलोमीटर दक्षिण में है। saudigazette.com.sa के अनुसार, सऊदी अरब विरासत आयोग की एक बहु-राष्ट्रीय टीम अल-फाओ का सर्वेक्षण करने गई थी। उन्होंने आसमान से जमीन तक का गहरा सर्वे किया। उसमें से कई बातें निकलीं।

यहां मिलने वाली चीजों में सबसे खास हैं एक पत्थर का मंदिर और एक वेदी के हिस्से। ऐसा माना जाता है कि अल-फाओ के लोगों ने यहां अनुष्ठान किया था। अल-फाओ के पूर्वी भाग में पाया जाने वाला एक पत्थर का मंदिर तुवाइक पर्वत की एक चोटी पर है, जिसे खशेम करियाह कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें..  "जहां कारों को बेचने की अनुमति नहीं है, वहां कोई संयंत्र भी नहीं है", भारत में टेस्ला कार उत्पादन पर एलोन मस्क कहते हैं

इसके अलावा यहां 8 हजार साल पुरानी नवपाषाणकालीन मानव बस्तियों के अवशेष मिले हैं। इसके अलावा इस स्थान पर विभिन्न कालों की 2,807 कब्रें भी देखी गई हैं।

अल-फाओ में जमीन के अंदर कई धार्मिक शिलालेख भी पाए गए हैं। जिससे यहां मौजूद लोगों की धार्मिक समझ के बारे में कई अहम जानकारियां हासिल हुई हैं। सर्वे में अल-फाओ की भौगोलिक संरचना को लेकर कई अहम बातें सामने आई हैं।

इस अध्ययन से अल-फाओ की जटिल सिंचाई प्रणाली का भी पता चला। स्थानीय लोगों ने नहरों, पानी के कुंडों के अलावा यहां सैकड़ों गड्ढे खोदे थे, ताकि बारिश का पानी खेतों तक पहुंचा सकें. इन खोजों से पता चलता है कि कैसे लोग दुनिया के सबसे कठिन रेगिस्तान में बारिश के पानी को बचाते थे।

इसे भी पढ़ें..  CWG 2022 : जेरेमी लालरिनुंगा ने वेटलिफ्टिंग में भारत को दिलाया गोल्ड मेडल, बनाया रिकॉर्ड और भी 4 मैडल, जानिए किसको मिला

तुवाइक पर्वत के पत्थरों पर कलाकृति और शिलालेख मधेकर बिन मुनीम नाम के एक व्यक्ति की कहानी बताते हैं। इसके अलावा पत्थर की कलाकृतियों से शिकार, यात्रा और युद्ध की भी जानकारी मिलती है।