Bihar : बीजेपी को भनक पहले से ही थी तब भी नितीश कुमार को नहीं रोका बीजेपी आखिर वजह क्या है

Bihar : बीजेपी को भनक पहले से ही थी तब भी नितीश कुमार को नहीं रोका बीजेपी आखिर वजह क्या है

2013 की तरह 2022 में एक बार फिर नीतीश कुमार बीजेपी छोड़कर अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वी लालू यादव में शामिल हो गए, लेकिन 2013 और 2022 में बड़ा अंतर है, जिसे समझने की जरूरत है. दरअसल, साल 2013 और साल 2022 के बीच का यह अंतर यह बताने के लिए काफी है कि बिहार की राजनीति में नीतीश कुमार कितने अहम हैं.

BJP को थी भनक फिर भी Nitish Kumar को रोकने की कोशिश नहीं की गई

2013 में नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी के विरोध के नाम पर बीजेपी को झटका दिया, लेकिन मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की बजाय उन्होंने तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी समेत बीजेपी कोटे के सभी मंत्रियों को अपनी सरकार से बर्खास्त कर दिया. था उस वक्त बीजेपी की ओर से कहा गया था कि नीतीश कुमार ने जल्दबाजी में गठबंधन छोड़ने का फैसला किया है.

हाल ही का ट्वीट :-

लेकिन इस बार सब कुछ साफ दिख रहा था. नीतीश कुमार क्या करने वाले हैं, इसकी लंबे समय से राजनीतिक गलियारों में कयास लगाए जा रहे थे। बीजेपी नेताओं को भी पता था कि नीतीश कुमार उन्हें छोड़ने वाले हैं लेकिन सबसे दिलचस्प और हैरान करने वाली बात यह थी कि सटीक जानकारी होने के बावजूद बीजेपी ने इस बार नीतीश कुमार को मनाने की कोई कोशिश नहीं की.

इसे भी पढ़ें..  वर्तमान में Period Leave को शामिल करने का कोई प्रस्ताव नहीं,लोकसभा में बोलीं Smriti Irani

दरअसल, इस बार बीजेपी ने कई कारणों से नीतीश कुमार को समझाने की कोशिश नहीं की क्योंकि उन्हें लगा कि नीतीश कुमार ने अब राष्ट्रीय राजनीति में अपनी भूमिका बढ़ाने का मन बना लिया है और इसके लिए उन्हें बिहार में लालू यादव और दिल्ली में कांग्रेस की जरूरत है. जरूरत हो। सबसे बड़ी बात यह है कि बीजेपी को लगता है कि बिहार में नीतीश कुमार की लोकप्रियता तेजी से घटी है.

बिहार के वोटर पे पकड़ ढीली
बिहार बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि 2020 के विधानसभा चुनाव के नतीजों ने साबित कर दिया है कि बिहार के मतदाताओं पर नीतीश कुमार की पकड़ ढीली हो गई है और जनता को अब सिर्फ बीजेपी से उम्मीद नजर आई है. बीजेपी के एक नेता ने तो यहां तक ​​कह दिया कि अपनी महत्वाकांक्षाओं, स्वार्थ और जिद के चलते नीतीश कुमार बिहार के हितों को नुकसान पहुंचा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें..  उपराष्ट्रपति Venkaiah Naidu का विदाई समारोह, आपके साथ काम करना हमारा सौभाग्य, भावुक हो गए PM Modi कही ये बात

बीजेपी ने इसका खंडन किया
सोमवार को भी जब जेडीयू खेमे ने सूत्रों का हवाला देते हुए इस खबर को चलाने की कोशिश की कि बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने नीतीश कुमार से बात की है, तो बीजेपी ने तुरंत इसका खंडन किया. कोशिश की गई कि बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने नीतीश कुमार से बात की हो, लेकिन बीजेपी ने तुरंत इनकार कर दिया.

भविष्य की संभावनाओं और नीतीश कुमार की जिद को देखते हुए भाजपा नेताओं ने नीतीश कुमार को मनाने, उन्हें एनडीए गठबंधन में रखने और सरकार बचाने की कोई कोशिश नहीं की, लेकिन केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे और बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल और पार्टी के अन्य नेताओं के बयानों से साफ है कि बीजेपी नीतीश कुमार के धोखे को भुनाने के लिए बड़े पैमाने की रणनीति के तहत बिहार में प्रचार करने जा रही है.

इसे भी पढ़ें..  नालंदा, बिहार: नालंदा के सरकारी स्कूल में घटी घटना, कुछ दिन पहले सोनू ने की थी खराब व्यवस्था की शिकायत