नगर परिषद में डस्टबिन घोटाले की जांच रिपोर्ट

नगर परिषद में डस्टबिन घोटाले की जांच रिपोर्ट तलब

संवाद सहयोगी, लखीसराय : लखीसराय के विधायक सह बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा लगातार विभाग वार जिले की विकास योजनाओं की समीक्षा कर रहे हैं। समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिए गए निर्देश का कितना अनुपालन हुआ इसकी प्रगति प्रतिवेदन देने में पदाधिकारी पूरी तरह उदासीन हैं। बीते चार जुलाई को लखीसराय दौरे पर आए बिहार विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यालय स्थित जिला अतिथि गृह में विभाग वार संबंधित पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए अनुपालन प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था।

संवाद सहयोगी लखीसराय लखीसराय के विधायक सह बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा लग

बावजूद किसी भी पदाधिकारी ने अनुपालन प्रतिवेदन उपलब्ध नहीं कराया। विधानसभा अध्यक्ष ने इस पर गहरी नाराजगी जताई है। अध्यक्ष के आप्त सचिव ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर बैठक में दिए गए निर्देश के आलोक में विभाग वार अनुपालन प्रतिवेदन एवं कार्रवाई प्रतिवेदन उपलब्ध कराने को कहा है। विधानसभा अध्यक्ष ने जिलाधिकारी से वित्तीय वर्ष 2019- 20, 2020-21 एवं 2021-22 में जिले में विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं की विस्तृत रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा है। इसमें विभाग वार योजनाओं का नाम, प्राक्कलित राशि, योजना प्रारंभ करने की तिथि, कार्य एजेंसी, कार्य की स्थिति, योजना पूर्ण या अपूर्ण सहित अन्य जानकारियों के साथ 15 दिनों के अंदर रिपोर्ट तलब किया है।

इसे भी पढ़ें..  श्रृंगीऋषि धाम लखीसराय : जंगलों व पहाड़ों की कंदराओं में आध्यात्मिक, पौराणिक व रमणीक स्थल, हर मनोकामना पूर्ण

विधानसभा अध्यक्ष ने जिलाधिकारी से नगर परिषद लखीसराय में तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी मनीष कुमार के कार्यकाल में ढाई करोड़ 76 लाख की लागत से खरीद की गई स्टील और लोहे के डस्टबिन मामले को जांच रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा है। उन्होंने नप ईओ से अधूरा पड़ा कृमिला पार्क के बारे में जानकारी मांगी है। विधानसभा अध्यक्ष के आप्त सचिव ने जिलाधिकारी को लिखे पत्र में कहा है कि जिले में अमृत सरोवर योजना के तहत हो रहे कार्य एवं मनरेगा योजना की जानकारी डीडीसी से मांगी गई थी। वह भी अब तक अप्राप्त है। उन्होंने डीएम से दोनों योजनाओं की पूरी जानकारी उपलब्ध कराने को कहा है। इसके अलावा विधानसभा अध्यक्ष ने जिलाधिकारी से पंचायत वार आवंटित प्रधानमंत्री आवास योजना की स्थिति, संग्रहालय की जानकारी, महिला आइटीआइ के निर्माण के लिए जमीन की उपलब्धता आदि के बारे में भी जानकारी देने को कहा है।

इसे भी पढ़ें..  नक्सली के बयान पर एआइवाइएफ के राज्य सचिव को फंसाना गलत