Ekadashi 2022 Remedy: Do this special remedy on Apara Ekadashi, by the grace of Lord Vishnu, the courtyard of the house will be filled with happiness

एकादशी 2022 उपाय: अपरा एकादशी पर करें ये विशेष उपाय, भगवान विष्णु की कृपा से घर का आंगन खुशियों से भर जाएगा

अचला एकादशी 2022 उपाय: ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को अचला एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसे अपरा एकादशी भी कहते हैं। हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत का विशेष महत्व है।

अपरा एकादशी 2022: हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत का विशेष महत्व बताया गया है। ऐसी मान्यता है कि एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है। प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की एकादशी का अपना-अपना महत्व है। ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसे अचला एकादशी भी कहते हैं। इस बार अपरा एकादशी 26 मई, गुरुवार को पड़ रही है। इस एकादशी का विशेष महत्व है।

इसे भी पढ़ें..  Chanakya Niti: इन घरों में खुद चलकर आता है अपार धन, हमेशा रहता है मां लक्ष्‍मी का वास! ये है वजह

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर कोई व्यक्ति इस दिन पूजा और व्रत के साथ-साथ कुछ ज्योतिषीय उपाय भी करता है तो उसकी सारी परेशानियां दूर हो जाती हैं। और व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन गंगा स्नान के साथ-साथ दान आदि का भी विशेष महत्व बताया गया है। इस दिन कुछ उपाय करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है और व्यक्ति को सभी कार्यों में सिद्धि प्राप्त होती है।

अपरा एकादशी पर करें ये उपाय

ज्योतिष की अपरा एकादशी के दिन पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं और घी का दीपक भी जलाएं। ऐसा करने से देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है और व्यक्ति को सुख-समृद्धि और कर्ज से छुटकारा की प्राप्ति होती है।
एकादशी के दिन घर के कोने-कोने में दीपक अवश्य जलाएं। ऐसा करने से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

इसे भी पढ़ें..  रामायण कथा: जिसका वद्य किया उसने ही प्रभु के चरणों में अपने बेटे को सौंप दिया गया! रामायण की यह कहानी दिलचस्प है

अपरा एकादशी के दिन पूजा के साथ-साथ मंत्रों के जाप का भी विशेष महत्व है। इस दिन ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें।

इस दिन भगवान श्री हरि की शंख से पूजा की जाती है और वह भक्तों को सौभाग्य का आशीर्वाद देते हैं।

इस दिन भगवान विष्णु को खीर का भोग लगाएं और तुलसी के पत्तों को शामिल करें। ऐसा करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है।
इस दिन जरूरतमंदों को कपड़े, अनाज, मिठाई आदि का दान करें। पीला रंग विष्णु जी को बहुत प्रिय है। इसलिए इस दिन भगवान विष्णु को पीले फूल, गुड़, चने की दाल आदि चढ़ाएं।

इसे भी पढ़ें..  इस रक्षाबंधन पर ही बन रहा भद्रा काल का संकट, जानिए क्यों भद्रा काल को माना जाता है अशुभ

इस बार अपरा एकादशी गुरुवार को होने से जातक को दोहरा लाभ मिलेगा। इस दिन भगवान विष्णु को पीले रंग के वस्त्र अर्पित करें। इससे कुंडली में गुरु ग्रह बलवान होता है।