Gyanvapi Host Sarve : Changes were

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे : ज्ञानवापी में शिवलिंग मिलने के दावे के बाद कोर्ट ने दिया बड़ा आदेश, पूरी काशी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे : अब सभी को कोर्ट के फैसले का इंतजार है. लेकिन इस बीच मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष द्वारा किए जा रहे दावों को निराधार बताया है. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे को लेकर हिंदू पक्ष लगातार मनगढ़ंत दावे कर रहे हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे से कोई शिवलिंग प्राप्त नहीं हुआ है. अब ऐसे में किसके दावों में कितनी सच्चाई है?

नई दिल्ली: ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे के तीसरे और आखिरी दिन का सर्वे आज पूरा हो गया है. सर्वे पूरा होने के बाद हिंदू पक्ष ने मस्जिद के वजूखाना में एक शिवलिंग मिलने का दावा किया है। जिसके बाद कोर्ट ने जिलाधिकारी को उक्त स्थान को सुरक्षित व सील करने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने कहा कि उपरोक्त जगह की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआरपीएफ समेत सुरक्षाकर्मियों की है. कोर्ट ने उस जगह को सील करने का निर्देश दिया है जहां से शिवलिंग प्राप्त हुआ था।

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे का तीन दिन का सर्वे पूरा होने के बाद कोर्ट कमिश्नर कल यानी मंगलवार को कोर्ट में जांच रिपोर्ट दाखिल करेंगे. हिंदू पक्ष के दावों के अनुसार वजुखाना से पानी निकालते ही वहां 12.8 व्यास का एक शिवलिंग मिला, जिसके बाद हिंदू पक्ष के लोगों ने खुशी मनाई। हिंदू पक्ष के वकील मोहन यादव ने दावा किया है कि शिवलिंग वजुखाना से मिला है, जो इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण है कि वहां मंदिर था। वहीं हिंदू पक्षकार सोहनलाल ने कहा कि आज बाबा मिल गए हैं, जो इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण है कि बाद में हिंदू मंदिर था, जिसे तोड़कर क्रूर बादशाह ने मस्जिद बना दी. मस्जिद से शिवलिंग प्राप्त करने के बाद हिंदू पार्टियों में खुशी की लहर है।

अब सभी को कोर्ट के फैसले का इंतजार है। लेकिन इस बीच मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष द्वारा किए जा रहे दावों को निराधार बताया है. ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे पक्ष का कहना है कि ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हिंदू पक्ष लगातार मनगढ़ंत दावे कर रहे हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि मंदिर से कोई शिवलिंग प्राप्त नहीं हुआ है. अब ऐसे में किसके दावों में कितनी सच्चाई है? इसका फैसला आने वाले दिनों में ही कोर्ट करेगा। बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे में शिवलिंग प्राप्त करने के बाद आसपास के इलाकों में वुज़ू करने पर प्रतिबंध है।

इसे भी पढ़ें..  एक प्यारी मासूम 6 साल की बच्ची ने PM मोदी को लिखी चिट्ठी, मेरी पेंसिल-रबर और मैगी महंगी क्यों हो गई ?

कोर्ट ने मस्जिद में 20 से ज्यादा लोगों के नमाज अदा करने पर फिलहाल रोक लगाने का निर्देश दिया है। ध्यान रहे कि अब तक किए गए सर्वे में जितने भी दावे और सबूत सामने आए हैं, वे सभी हिंदू पार्टियों के दावों को मजबूत करने का ही काम कर रहे हैं. अब कल इस पूरे मामले में कमिश्नर द्वारा कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की जाएगी। जिसके बाद अगले फैसले का रोडमैप तैयार किया जाएगा। इसके बाद कोर्ट फैसला करेगी कि ज्ञानवापी मस्जिद का सच क्या है. आइए अब आपको पूरा मामला विस्तार से बताते हैं।

गौरतलब है कि हिंदू पक्ष की ओर से इलाहाबाद हाईकोर्ट में वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे को लेकर एक याचिका दायर की गई है, जिसमें उक्त स्थल पर मस्जिद होने का दावा किया गया है. जिसके बाद कोर्ट ने सर्वे का निर्देश दिया है, जिसमें सारे सबूत सामने आए हैं. वे सभी हिंदू पक्षों के दावों को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं। अब ऐसे में आगे बढ़ने के लिए पूरा रवैया क्या है?

इसे भी पढ़ें..  ज्ञानवापी मामले में 1991 के एक्ट का जिक्र तो बहुत है, लेकिन उसमें भी एक दिक्कत है...जानिए क्या है अपवाद नियम