Jio, Airtel's tension is over, this is Adani's 5G plan

Jio, Airtel की टेंशन खत्म, ये है अडानी का 5G प्लान

5जी स्पेक्ट्रम नीलामी में अदाणी समूह के शामिल होने की खबरों को मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो और सुनील भारती मित्तल की एयरटेल के लिए बड़ी चुनौती माना जा रहा है, लेकिन अब कंपनी का 5जी प्लान सामने आने के बाद इन दोनों कंपनियों की टेंशन कम हो गई है. दिखाई दे रहा है।

उद्योगपति गौतम अडानी के अडानी समूह ने आगामी 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए आवेदन किया है। तभी से माना जा रहा था कि टेलीकॉम सेक्टर में कंपनी के आने से जियो और एयरटेल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, लेकिन अब जब कंपनी का 5जी प्लान सामने आया है तो इन दोनों कंपनियों की टेंशन खत्म होती दिख रही है। जानिए क्या है ये प्लान

अडानी का 5जी प्लान

अडानी का 5जी प्लान

इसे भी पढ़ें..  IAS Interview Questions: लड़कियों के शरीर का कौनसा अंग हमेशा गीला रहता है, मिला ये सॉलिड जबाव

अडानी समूह ने साफ कर दिया है कि वह ग्राहकों को 5जी सेवा नहीं देने जा रहा है, बल्कि उसे अपने कारोबार के लिए 5जी स्पेक्ट्रम की जरूरत है। इसलिए उन्होंने इस बार बोली प्रक्रिया में हिस्सा लिया है। कंपनी को अपने हवाई अड्डों और बंदरगाहों के लिए साइबर सुरक्षा, बिजली उत्पादन, पारेषण, कारखानों, खुदरा से लेकर डेटा केंद्रों और सुपर ऐप तक उच्च गुणवत्ता वाले और तेज़ इंटरनेट की आवश्यकता है।

पीटीआई ने शुक्रवार को खबर दी थी कि अदाणी समूह 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी में हिस्सा लेगा। इसे मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो और सुनील भारती मित्तल की एयरटेल के लिए एक बड़ी चुनौती माना जा रहा है, लेकिन अब कंपनी का 5जी प्लान सामने आने के बाद इन दोनों कंपनियों की टेंशन कम होती दिख रही है।

इसे भी पढ़ें..  PM Modi Birthday: पीएम मोदी कितनी संपत्ति के मालिक हैं? जानें उनके जन्मदिन के मौके पर पूरी डिटेल

होने वाली नीलामी

26 जुलाई को हुई खबर के मुताबिक टेलीकॉम सेक्टर की तीन निजी कंपनियों जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने 26 जुलाई को होने वाली स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए आवेदन किया है। अदाणी ग्रुप इसमें एंट्री करने वाली चौथी कंपनी है। कंपनी ने हाल ही में नेशनल लॉन्ग डिस्टेंस (NLD) और इंटरनेशनल लॉन्ग डिस्टेंस (ILD) लाइसेंस हासिल किए हैं।

5जी स्पेक्ट्रम की होगी नीलामी

5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के लिए सरकार की ओर से तय समयसीमा के मुताबिक 12 जुलाई को आवेदन करने वालों की जानकारी 12 जुलाई को सार्वजनिक की जाएगी. सरकार कुल 72,097.85 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी करने जा रही है. इसकी कीमत करीब 4.3 लाख करोड़ रुपये है। इस नीलामी के तहत 600 मेगाहर्ट्ज, 700 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज, 900 मेगाहर्ट्ज, 1800 मेगाहर्ट्ज, 2100 मेगाहर्ट्ज, 2300 मेगाहर्ट्ज और 3300 मेगाहर्ट्ज मिड फ़्रीक्वेंसी बैंड में और 26 गीगाहर्ट्ज़ स्पेक्ट्रम हाई फ़्रीक्वेंसी बैंड में इस नीलामी के तहत नीलाम किया जाना है।

इसे भी पढ़ें..  VPE : उपराष्ट्रपति पद के लिए धनखड़ का करेंगे समर्थन, CM Nitish का बड़ा एलान