मलेशिया के मंत्री ने गैर-मुस्लिम देशों को दी ये सलाह

मलेशिया के धार्मिक मामलों के मंत्री दातुक इदरीस अहमद ने कहा कि मलेशिया में सभी वर्गों और जातियों के लोग एक साथ शांति से रहते हैं। उन्होंने कहा कि अन्य देशों को भी मलेशिया से सीखने की जरूरत है।

मलेशिया के धार्मिक मामलों के मंत्री दातुक इदरीस अहमद ने कहा कि मलेशिया सहिष्णुता का उदाहरण है और जिन देशों में मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं, उन्हें भी इससे सीखने की जरूरत है। उन्होंने कहा, मलेशिया आधिकारिक तौर पर एक इस्लामिक देश है, लेकिन फिर भी यहां की मुस्लिम बहुसंख्यक आबादी बाकी समुदाय के लोगों के साथ सद्भाव में रहती है। इदरीस ने 9 मार्च को समाप्त हुए दो दिवसीय विश्व मुस्लिम समुदाय परिषद के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में कहा कि मलेशिया में सहिष्णुता और सद्भावना की संस्कृति दुनिया भर के मुसलमानों को एक साथ लाने के लिए एक मार्गदर्शक हो सकती है।

इसे भी पढ़ें..  WhatsApp एडमिन को मिलेगा ज्यादा पावर, ग्रुप मे से Admin कोई भी मैसेज डिलीट कर सकता है

इदरीस का कहना है कि जिन देशों में मुसलमानों की आबादी अधिक है, वहां अन्य धर्मों के लोगों को आसानी से स्वीकार कर लिया जाता है लेकिन जहां मुसलमानों की आबादी कम है, वहां मुसलमानों को स्वीकार नहीं किया जाता है।

उन्होंने कहा, मलेशिया में हमने जो नींव बनाई है, हम उम्मीद करते हैं कि अन्य देश भी सौहार्द बनाए रखने के लिए इसे लागू करेंगे, भले ही वह उन देशों में हो जहां गैर-मुसलमानों की संख्या अधिक है। उन्होंने कहा कि मलेशिया ने समाज के सभी वर्गों के साथ भाईचारा बनाने का प्रयास किया है। उन्होंने सम्मेलन के बारे में कहा कि यह इस सम्मेलन की सफलता है कि इसने मुसलमानों के सामने आने वाली चुनौतियों पर चर्चा करने के लिए दुनिया भर से इस्लामी हस्तियों को एक साथ लाया। इस सम्मेलन में 105 देशों के 500 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

इसे भी पढ़ें..  गलती से भी इन चीजों को गूगल पर सर्च न करें, नहीं तो आपको जेल तक जाना पड़ सकता है।

उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात ने इच्छा व्यक्त की है कि मलेशिया इस सम्मेलन का अगला मेजबान होना चाहिए। सम्मेलन में पांच प्रस्तावों पर सहमति बनी, जिसमें ‘मुसलमानों की सामूहिक चेतना को जगाने के लिए पारंपरिक और नए मीडिया के उपयोग को बढ़ावा देना शामिल है, ताकि उन्हें 21वीं सदी में मुसलमानों के सामने आने वाली चुनौतियों से संबंधित विषयों के बारे में समझाया जा सके।