Mann Ki Baat Live: PM Modi addresses Mann Ki Baat, mentions the days of Emergency

मन की बात लाइव: पीएम मोदी ने मन की बात को संबोधित किया, आपातकाल के दिनों का किया जिक्र

मन की बात: पीएम मोदी मन की बात कार्यक्रम के 90वें एपिसोड को संबोधित कर रहे हैं. यहां जानिए मन की बात के इस एपिसोड के पल-पल के अपडेट…

पीएम मोदी मन की बात: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 89वें एपिसोड को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान वह देशवासियों से मिले सुझावों का जिक्र कर रहे हैं. पीएम मोदी ने साल 1975 में आपातकाल के दिनों का जिक्र किया।

मन की बात लाइव: पीएम मोदी ने मन की बात को संबोधित किया, आपातकाल के दिनों का किया जिक्र

आपातकाल के दौर को याद कर रहे हैं

पीएम मोदी ने कहा, ‘आज मैं आपके साथ चर्चा करना चाहता हूं, देश का एक ऐसा जन आंदोलन, जिसका देश के हर नागरिक के जीवन में बहुत महत्व है। 1975 साल पहले की बात है। जून वही समय था जब आपातकाल लगाया गया था, आपातकाल लगाया गया था। उसमें देश के नागरिकों से सारे अधिकार छीन लिए गए। उनमें से एक अधिकार संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत सभी भारतीयों को दिया गया ‘जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार’ था।

इसे भी पढ़ें..  अम्बानी परिवार की होने वाली बहु की गुज़रने लगी गैर मर्द के साथ रातें, रातभर घर से बाहर ये है वजह

‘आपातकाल के भयानक दौर को न भूलें’

मन की बात लाइव: पीएम मोदी ने मन की बात को संबोधित किया, आपातकाल के दिनों का किया जिक्र

आज जब देश अपनी स्वतंत्रता के 75 वर्ष मना रहा है, अमृत महोत्सव मना रहा है, हमें आपातकाल के उस भयानक दौर को कभी नहीं भूलना चाहिए। आने वाली पीढि़यों को भी नहीं भूलना चाहिए। अमृत ​​महोत्सव में न केवल सैकड़ों साल की गुलामी से आजादी की जीत की गाथा बल्कि आजादी के बाद के 75 साल के सफर को भी शामिल किया गया है। इतिहास के हर महत्वपूर्ण पड़ाव से सीख लेकर हम आगे बढ़ते हैं।

अंतरिक्ष क्षेत्र और स्टार्टअप के बारे में बात कर रहे हैं

अंतरिक्ष क्षेत्र और स्टार्टअप्स पर बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘आज जब हमारा भारत इतने क्षेत्रों में सफलता के आसमान को छू रहा है, तो आकाश या अंतरिक्ष इससे अछूता कैसे रह सकता है! पिछले कुछ सालों में हमारे देश में स्पेस सेक्टर से जुड़े कई बड़े काम हुए हैं। इन-स्पेस नाम की एजेंसी का निर्माण देश की इन्हीं उपलब्धियों में से एक है। एक एजेंसी जो भारत के निजी क्षेत्र के लिए अंतरिक्ष क्षेत्र में नए अवसरों को बढ़ावा दे रही है। इस शुरुआत ने हमारे देश के युवाओं को विशेष रूप से आकर्षित किया है।

इसे भी पढ़ें..  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री खुद को 'मजनू' कहते आये नजर; बोला - अल्लाह ने मुझे इस देश का प्रधानमंत्री बनाया

अंतरिक्ष क्षेत्र में 100 से अधिक स्टार्टअप

Indian spacetech startups take baby steps before big leap

उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले तक हमारे देश में, अंतरिक्ष क्षेत्र में, किसी ने भी स्टार्ट-अप के बारे में नहीं सोचा था। आज इनकी संख्या सौ से अधिक है। ये सभी स्टार्ट-अप ऐसे विचारों पर काम कर रहे हैं, जिनके बारे में या तो पहले नहीं सोचा गया था, या फिर निजी क्षेत्र के लिए असंभव माना जाता था। स्टार्टअप्स के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “चेन्नई और हैदराबाद में दो स्टार्ट-अप हैं – अग्निकुल और स्काईरूट। ये स्टार्ट-अप ऐसे लॉन्च व्हीकल विकसित कर रहे हैं जो छोटे पेलोड को अंतरिक्ष में ले जाएंगे। इससे अंतरिक्ष प्रक्षेपण की लागत बहुत कम होने का अनुमान है।

इसे भी पढ़ें..  "जहां कारों को बेचने की अनुमति नहीं है, वहां कोई संयंत्र भी नहीं है", भारत में टेस्ला कार उत्पादन पर एलोन मस्क कहते हैं

नीरज चोपड़ा का जिक्र

मन की बात लाइव: पीएम मोदी ने मन की बात को संबोधित किया, आपातकाल के दिनों का किया जिक्र

ओलंपिक विजेता नीरज चोपड़ा के बारे में बताते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘अतीत में हमारे ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा फिर से सुर्खियों में थे। ओलंपिक के बाद भी वह एक के बाद एक सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं. नीरज ने फिनलैंड में पावो नूरमी खेलों में रजत पदक जीता। इसके साथ ही उन्होंने अपने ही जेवलिन थ्रो का रिकॉर्ड भी तोड़ा। कुओर्टेन गेम्स में नीरज ने एक बार फिर गोल्ड जीतकर देश को गौरवान्वित किया है। उन्होंने यह गोल्ड ऐसे हालात में जीता था जब वहां का मौसम भी काफी खराब था।