इसमें करीब डेढ़ से दो लाख कार्यकर्ताओं के शामिल होने की संभावना है. सत्ता से हटने के बाद बिहार में बीजेपी की यह पहली बड़ी रैली है. शाह की इस रैली को बिहार से 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारियों का आगाज माना जा रहा है.

मिशन 2024: सीमांचल से बिहार साधेंगे अमित शाह, जनभावना रैली में जुटेंगे 2 लाख लोग

पूर्णिया में अमित शाह जनभावना रैली में करीब दो लाख लोगों को संबोधित करेंगे. शाह सीमांचल से 2024 लोकसभा चुनाव के लिए शंखनाद करेंगे.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह शुक्रवार को बिहार दौरे पर आ रहे हैं वह सीमांचल में दो दिनों तक रहेंगे. शुक्रवार को पूर्णिया में जनसभा के बाद 24 सितंबर को कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे. 23 सितंबर को केंद्रीय गृहमंत्री शाह रंगभूमि मैदान में बीजेपी की विशाल जनभावना रैली को संबोधित करेंगे, इसमें करीब डेढ़ से दो लाख कार्यकर्ताओं के शामिल होने की संभावना है. सत्ता से हटने के बाद बिहार में बीजेपी की यह पहली बड़ी रैली है. शाह की इस रैली को बिहार से 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारियों का आगाज माना जा रहा है. शनिवार को अमित शाह किशनगंज दौरे पर रहेंगे. किशनगंज में वह बूढ़ी काली मंदिर के दर्शन कर पूजा-अर्चना करेंगे. इसके बाद फतेहपुर नेपाल बॉर्डर पर स्थित एसएसबी कैंप जाएंगे. यहां अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे और सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था की शाह समीक्षा करेंगे.

इसे भी पढ़ें.. 

बीजेपी ने भव्य तैयारी की है

शाह के सीमांचल दौरे को लेकर बीजेपी ने भव्य तैयारी की है. पूर्णिया में आमित शाह की रैली के लिए 56 स्कवायर फीट लंबा और 28 स्कवायर फीट चौड़ा मंच बनाया गया है. मंच को भगवा रंग से सजाया गया है। मंच पर दस कुर्सियां होंगी.मंच के बगल में सेफ हाउस बनाया गया है. जहां एयरपोर्ट से आने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री कुछ वक्त रुकेंगे. इसके बाद बगल में ही वीआईपी लाउंज भी तैयार

यह है शाह का कार्यक्रम

केंद्रीय गृह मंत्री शुक्रवार सुबह चुनापूर हवाई अड्डा पहुंचेंगे. इसके बाद वह सीधे पूर्णिया के रंगभूमि मैदान आएंगे. यहां दोपहर 12 बजे रैली शुरू होगी जो 3 बजे तक चलेगी.इसके बाद शाह वापस चुनापूर हवाई अड्डा लौटेंगे और वहां से हेलिकॉप्टर के जरिए खगड़ा किशनगंज के लिए रवाना होंगे. किशनगंज में वे माता गुजरी विश्वविद्यालय में रुकेंगे. शाम 4 से रात 9 बजे तक यहां बीजेपी नेताओं के साथ बैठकें होंगी और फिर डिनर का कार्यक्रम है.

इसे भी पढ़ें..  भारत ने ब्रिटेन को दिया झटका, विश्व की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में दर्ज किया अपना नाम

बूढ़ी काली मंदिर में दर्शन पूजा

अगले दिन शनिवार को अमित शाह बूढ़ी काली मंदिर के दर्शन कर पूजा-अर्चना करेंगे. इसके बाद फतेहपुर नेपाल बॉर्डर पर स्थित एसएसबी कैंप जाएंगे. शाह यहां अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे और सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करेंगे. यहां से दोबारा वे माता गुजरी विश्वविद्यालय लौटेंगे, जहां जिला कोर कमिटी की बैठक करेंगे. फिर पूर्णिया हवाई अड्डे से शाम में दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.