Viral Video: With this unique jugaad, the person pressed clothes, people said: 'This technique should not go out of India'

वायरल वीडियो: इस अनूठे जुगाड़ से शख्स ने प्रेस किए कपड़े, लोगों ने कहा : ‘ये तकनीक भारत से बाहर न जाए’

हैरान कर देने वाले अविष्कार: सोशल मीडिया पर एक शख्स का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वह कपड़े दबाने के लिए कोयले या बिजली के लोहे का नहीं बल्कि रसोई गैस सिलेंडर गैस से चलने वाले लोहे का इस्तेमाल करता दिख रहा है।

सोशल मीडिया का ट्रेंडिंग वीडियो: हमारे देश में टैलेंट की कोई कमी नहीं है. हर किसी के अंदर कोई न कोई हुनर ​​होता है, जरूरत होती है, बस उसे पहचानने की। भारतीय पूरी दुनिया में अपने जुगाड़ के लिए जाने जाते हैं। कई बार लोग जुगाड़ के जरिए ऐसी चीजें बना लेते हैं, जिन्हें देखने के बाद बड़े से बड़ा इंजीनियर भी हैरान रह जाएगा. ऐसा ही एक जुगाड़ इन दिनों सोशल मीडिया पर सभी को हैरान कर रहा है. वायरल हो रहे इस वीडियो को देखने के बाद आप भी तारीफ करते नहीं थकेंगे.

इसे भी पढ़ें..  नीता अंबानी की सभी अधूरी चाहते पूरी करता है यह रोबोट, महसूस नहीं होने देता है पति की कमी

आज तक आपने धोबी को कोयले के लोहे से कपड़े दबाते या बिजली के लोहे का इस्तेमाल करते देखा होगा, लेकिन हाल ही में वायरल हुए एक शख्स का जुगाड़ देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे. वायरल हो रहे इस वीडियो में एक शख्स एलपीजी सिलेंडर से कपड़े को लोहे से दबाता दिख रहा है, जिसे देखने के बाद हर कोई सोच रहा है. इंटरनेट पर लोग इस वायरल हो रहे वीडियो की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं.

42 सेकेंड के इस वीडियो में एक आदमी कपड़े दबाने के लिए कोयले या बिजली के लोहे का नहीं बल्कि रसोई गैस सिलेंडर से चलने वाले लोहे का इस्तेमाल करता दिख रहा है। Video एक शख्स कपड़े दबाने वाले शख्स से पूछ रहा है कि ये प्रेस सिलेंडर से कैसे काम करता है? इस पर उस व्यक्ति ने कहा, ‘पता नहीं, लेकिन पिछले साल से इस प्रेस का इस्तेमाल कर रहा हूं।’

इसे भी पढ़ें..  गर्लफ्रेंड हो ज्यादा सुंदर तो इस तरह हो सकती है बेइज्जती, देखे वायरल वीडियो

इस वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम पर ‘गिद्दी’ नाम से शेयर किया गया है, जिसे अब तक करीब 32 हजार और लोग देख चुके हैं। वहीं इस वीडियो को अब तक 5 हजार से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं. वीडियो देखने के बाद यूजर्स तरह-तरह के रिएक्शन दे रहे हैं. एक यूजर ने लिखा, ‘कोई बताएगा कि इसका इस्तेमाल कैसे करना है?’ तो वहीं दूसरे यूजर ने लिखा, ‘यह तकनीक भारत से बाहर नहीं जानी चाहिए.’