Ashokdham temple flourished in Sawan, became a picnic spot, the temple of God

सावन में गुलजार हुआ अशोकधाम मंदिर, बन गया पिकनिक स्पाट भगवान का मंदिर

बिहार के बाबा धाम के रूप में विख्यात श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोकधाम सावन में गुलजार हो गया है। खास कर शाम ढलते ही मंदिर में शिवभक्तों की भीड़ बढ़ जाती है। एलईडी बल्ब से जगमग मंदिर परिसर की खूबसूरत छटा और मंदिर की भव्यता और दिव्यता श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। इस कारण यह धार्मिक मंदिर पिकनिक स्पाट बन गया है जहां शिवभक्त भोलेनाथ और माता पार्वती के भव्य मंदिर के सामने सेल्फी और फोटो लेने में मग्न नजर आते हैं।

बिहार के बाबा धाम के रूप में विख्यात श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोकधाम सावन में गुलजार हो गया है। खास कर शाम ढलते ही मंदिर में शिवभक्तों की भीड़ बढ़ जाती है। एलईडी बल्ब से जगमग मंदिर परिसर की खूबसूरत छटा और मंदिर की भव्यता और दिव्यता श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। इस कारण यह धार्मिक मंदिर पिकनिक स्पाट बन गया है जहां शिवभक्त भोलेनाथ और माता पार्वती के भव्य मंदिर के सामने सेल्फी और फोटो लेने में मग्न नजर आते हैं।

संवाद सहयोगी, लखीसराय। बिहार के बाबा धाम के रूप में विख्यात श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोकधाम सावन में गुलजार हो गया है। खास कर शाम ढलते ही मंदिर में शिवभक्तों की भीड़ बढ़ जाती है। एलईडी बल्ब से जगमग मंदिर परिसर की खूबसूरत छटा और मंदिर की भव्यता और दिव्यता श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। इस कारण यह धार्मिक मंदिर पिकनिक स्पाट बन गया है जहां शिवभक्त भोलेनाथ और माता पार्वती के भव्य मंदिर के सामने सेल्फी और फोटो लेने में मग्न नजर आते हैं। मंदिर ट्रस्ट द्वारा सावन माह में भजन-कीर्तन की भी व्यवस्था कराई गई है। मंदिर परिसर में पश्चिम छोर पर बने विशाल शेड में बैठकर दूर दराज से आने वाले शिवभक्त अपनी थकान मिटाते हैं। शिव पार्वती के भजनों पर वे झूमते भी हैं। —-

इसे भी पढ़ें..  गांव पहुंची अधिकारियों की टीम, जानिए योजनाओं का हाल

राज्य के विभिन्न जिलों से अशोकधाम पहुंच रहे श्रद्धालु

सावन माह में राज्य के विभिन्न जिलों एवं अन्य राज्यों से बड़ी संख्या में कांवरिया जलाभिषेक करने झारखंड स्थित देवघर जाते हैं। जिला अंतर्गत एनएच 80 के रास्ते से गुजरने वाले कांवरिया का पड़ाव अशोकधाम में भी होता है। खास कर शाम होने पर काफी संख्या में राज्य के विभिन्न जिलों एवं अन्य राज्यों के कांवरिया यहां पड़ाव देते हैं। वे विशाल शिवलिग का दर्शन करने के बाद आगे बढ़ते हैं। —-

मंदिर की स्वच्छता और सजावट करती है आकर्षित

अशोकधाम मंदिर की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाता है। पूरे मंदिर परिसर में 24 घंटे सफाई की व्यवस्था रहती है। इस कारण भी मंदिर के स्वच्छ वातावरण में श्रद्धालु घूम-घूमकर मंदिर की सजावट और हरा भरा प्रांगण का आनंद लेते हैं। बाहर से आने वाले श्रद्धालु अपने स्वजन एवं साथियों के साथ मंदिर के कैंपस में फोटोग्राफी भी करते हैं। पार्वती मंदिर के आगे रंगीन बल्बों के बीच झरना भी श्रद्धालुओं को आकर्षित करता है। मंदिर ट्रस्ट के सचिव डा. श्यामसुंदर प्रसाद सिंह कहते हैं कि बाबानगरी अशोकधाम आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं हो इसका पूरा ध्यान रखा जाता है। काफी संख्या में श्रद्धालु रोज अशोकधाम आकर जलाभिषेक कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें..  सिंगल यूज प्लास्टिक पर वैन लगने से दुकानदारों की परेशानी बढ़ी