The day of 'Lali Pahari' of Bihar will be colorful, history is Buddhist period, will become the center of tourist attraction

रंगीन होगी बिहार की ‘लाली पहाड़ी’ के दिन, बौद्ध काल है इतिहास, बनेगा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र

बिहार के लखीसराय में प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थल लाली पहाड़ी अब मनाई जाएगी। सरकार का ध्यान एक बार फिर इस ओर गया है। राज्यपाल के आदेश से शासन के अपर सचिव को तीन करोड़ आठ लाख 89 हजार रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति मिल चुकी है.

बिहार : लखीसराय जिले के प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थल लाली पहाड़ी के उत्खनन स्थल के संरक्षण की उम्मीद बढ़ गई है. इस दिशा में शासन के अपर सचिव द्वारा राज्यपाल के आदेश से तीन करोड़ आठ लाख 89 हजार रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति भी दी गयी है. गत एक जुलाई को उक्त राशि की स्वीकृति के साथ ही राशि की निकासी के लिए महालेखाकार, बिहार को पत्र भी राज्य भवन निर्माण विभाग को कार्य हेतु भेजा है.

लाली पहाड़ी के दिन कई गुना बढ़ जाएंगे

लाली पहाड़ी के दिन कई गुना बढ़ जाएंगे

प्रशासनिक स्वीकृति अनुमान के अनुसार कार्य पूरा करने के बाद भवन निर्माण विभाग, पटना को कला, संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार सरकार को क्रियान्वयन समर्पित करने को कहा गया है. इसके साथ ही पत्र में कहा गया है कि संरक्षण का कार्य पुरातात्विक अनुशासन के अनुसार किया जाएगा. जिसके बाद माना जा रहा है कि जल्द ही लाली पहाड़ी के दिन कई होंगे और यह पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम होगा।

इसे भी पढ़ें..  सावन में सूख रहे खेत, आसमान ताक कर रो रहे  रहे हैं किसान

पहाड़ी पर ही हेलीपैड बनाने की बात

बता दें कि लाली पहाड़ी की सुरक्षा के लिए डेढ़ साल पहले पीपीआर तैयार किया गया था। जिसमें लाली पहाड़ी के उत्खनन स्थल को संरक्षित करने के अलावा पहाड़ी पर ही हेलीपैड बनाने, पहाड़ी तक जाने का रास्ता, पार्क और रेस्टोरेंट आदि बनाने की बात कही गई थी। आराम से साइट। अब शासन के अपर सचिव के आदेश जारी होने के साथ ही प्रशासनिक स्वीकृति के साथ ही इसके लिए धनराशि आवंटन के बाद कार्य तेज गति से होने की उम्मीद है.

हेलीकॉप्टर से लाली पहाड़ी पहुंचे सीएम नीतीश

बता दें कि जिला मुख्यालय स्थित लाली पहाड़ी का संबंध बौद्ध काल से होने की बात सामने आने के बाद मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लिया था और 25 नवंबर 2017 को हेलिकॉप्टर से लाली पहाड़ी पहुंचकर खुदाई शुरू की थी. काम, जिसके बाद पश्चिम बंगाल के विश्व भारती शांतिनिकेतन विश्वविद्यालय के प्राचीन इतिहास और पुरातत्व विभाग के प्रमुख डॉ. अनिल कुमार के नेतृत्व में तीन साल की खुदाई के बाद महान बौद्ध मठ का रूप सामने आया, साथ ही कई बौद्ध काल की पुरातात्विक महत्व की वस्तुएं और खंडहर सामने आए।

इसे भी पढ़ें..  Lakhisarai: बारिश के बाद खाद की कमी से परेशान हुए किसान , इतने रुपये में मिल रहा है यूरिया

जानें भव्य संग्रहालय के बारे में

मुख्यमंत्री ने पुरातत्व महत्व की वस्तुओं को संग्रहित करने के लिए संग्रहालय की आवश्यकता को महसूस करते हुए लखीसराय में एक भव्य संग्रहालय के निर्माण को मंजूरी दी थी, जो अब बालगुदर गांव के अशोक धाम मोड़ में आकार ले चुका है। अब लाली पहाड़ी में मिली पुरातात्विक महत्व की वस्तुओं सहित लखीसराय के विभिन्न भागों से प्राप्त मूर्तियों को सुनियोजित ढंग से स्थापित करने की आवश्यकता है।

लाली पहाड़ी उत्खनन स्थल के संरक्षण से पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा :

जिले की प्रसिद्ध लाली पहाड़ी पर उत्खनन क्षेत्र को संरक्षित कर यह पर्यटकों को भी आकर्षित करेगा, जिससे जिले में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और जिले के आय क्षेत्र का विस्तार होगा। वहीं जिले के अन्य उत्खनन क्षेत्रों को भी पर्यटन की दृष्टि से आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें..  लखीसराय : ताजपुर गांव रहस्यमय बीमारी से तीन की मौत मामले की जांच करने पहुंचे सीएस

पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

आपको बता दें कि जिले के सूर्यगढ़ा प्रखंड की उरैन पहाड़ी की भी खुदाई की गई थी, वहां भी बौद्ध काल की कई वस्तुएं निकली थीं. इसके संरक्षण पर भी जोर दिया जाएगा। साथ ही जिले के आधा दर्जन स्थलों को राज्य की धरोहर में शामिल किया गया है. इसकी खुदाई के प्रयास किए जाएंगे, जो आने वाले समय में पर्यटन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा।