14 अगस्त 2022 से आटा और सूजी के निर्यात पर भी रोक लगा दी गई है

14 अगस्त 2022 से आटा और सूजी के निर्यात पर भी रोक लगा दी गई है

केंद्र सरकार ने गेहूं के आटे के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के बाद आटा और सूजी के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. केंद्र सरकार का यह फैसला 14 अगस्त 2022 से प्रभावी होगा। दरअसल, पिछले दो महीनों में गेहूं और आटे के निर्यात पर प्रतिबंध के बाद आटा और सूजी के निर्यात में भारी उछाल आया है. इसी के चलते यह फैसला लिया गया है।

आटा और सूजी के निर्यात पर भी रोक लगा दी गई है

DGFT ने जारी किया आदेश
DGFT की ओर से जारी आदेश के मुताबिक अंतर-मंत्रालयी पैनल की मंजूरी के बाद आटा और सूजी के निर्यात की अनुमति दी जाएगी। इससे पहले जब केंद्र सरकार ने आटे के निर्यात पर रोक लगाने का फैसला लिया था तो कहा गया था कि अंतर-मंत्रालयी पैनल की मंजूरी के बाद ही निर्यात की अनुमति दी जाएगी। अप्रैल 2022 में, 314 करोड़ रुपये के मूल्य के साथ गेहूं उत्पादों का निर्यात 95,094 टन था। मई में 287 करोड़ रुपये मूल्य के 1.02 टन निर्यात किए गए। DGFT की ओर से जारी आदेश के मुताबिक, आटा सूजी, जिसे निर्यात के लिए कस्टम को सौंप दिया गया है, के निर्यात की अनुमति 8 से 14 अगस्त के बीच दी जाएगी.

इसे भी पढ़ें..  महंगाई पर बोले AIUDF चीफ : BJP सांसद अपनी पत्नीओ से पूछे रसोई कैसे चल रही ?

हाल ही का ट्वीट :-

कीमतों में उछाल के परिणामस्वरूप
दरअसल, गेहूं और आटे की कीमतों के बाद गेहूं से बने अन्य उत्पादों की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिला है. जिसके बाद सरकार ने यह फैसला लिया है। आपको बता दें कि गेहूं के उत्पादन में गिरावट और सरकारी खरीद में कमी से गेहूं की कीमतों में तेजी आई है। इससे पहले सरकार ने 13 मई 2022 को गेहूं के निर्यात पर रोक लगा दी थी।

इसे भी पढ़ें..  Amazon Fresh पर चल रहा दमदार ऑफर, सिर्फ 1 रुपए में खरीदें 1 किलो आटा और अन्य किराना सामान