गुरूवार व्रत कथा : गुरुवार व्रत की पूरी कथा, जिसे सुनने से आप पर होगी गुरुदेव की कृपा

सभी ग्रहों में गुरु बृहस्पति को माना जाता हैं, यह बुद्धिऔर शिक्षा का कारक माना जाता है। गुरुवार के दिन बृहस्पति की पूजा करने से धन, विद्या, मान, मान-प्रतिष्ठा और अन्य कई अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार गुरुवार के दिन गुरुदेव की पूजा करने का नियम है। गुरुवार के दिन व्रत व कथा सुनने से परिवार में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहती है। आइए थोड़ा विशेष जानते हैं गुरुवार व्रत कथा के बारे मे

गुरूवार व्रत कथा: देव गुरु बृहस्पति को ज्ञान और शिक्षा का कारक माना जाता है। गुरुवार के दिन बृहस्पति की पूजा करने से धन, विद्या, मान, मान-प्रतिष्ठा और अन्य कई वांछित परिणाम प्राप्त होते हैं। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार गुरुवार के दिन गुरुदेव की पूजा करने का विधान है। गुरुवार के दिन व्रत व कथा सुनने से परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है। आइए जानते हैं गुरुवार व्रत कथा के बारे में।

इसे भी पढ़ें..  ज्ञानवापी सर्वे : मुस्लिम पक्ष के वकील बोले- वजूखाना का फव्वारा को शिवलिंग बताया जा रहा है

गुरुवार व्रत कथा:

पौराणिक कथा के अनुसार यह प्राचीन काल की बात है। एक राज्य में एक बड़ा प्रतापी और परोपकारी राजा राज्य करता था। वह प्रत्येक गुरुवार का व्रत रखने और गरीबों और दलितों की मदद करने से पुण्य प्राप्त करता था, लेकिन यह बात उसकी रानी को पसंद नहीं थी। उसने न तो उपवास किया और न ही दान में विश्वास किया। इतना ही नहीं वह राजा को भी ऐसा करने से मना करती थी।

एक बार राजा शिकार खेलने जंगल में गया। घर में एक रानी और एक नौकरानी थी। उसी समय गुरु बृहस्पति देव साधु का रूप धारण कर राजा के द्वार पर भिक्षा मांगने आए। जब साधु ने रानी से भिक्षा मांगी तो वह कहने लगी, हे साधु महाराज, मैं इस दान और पुण्य से तंग आ गया हूं। कृपया कोई ऐसा उपाय बताएं, जिससे सारा धन नष्ट हो जाए और मैं आराम से रह सकूं।

इसे भी पढ़ें..  ज्ञानवापी मामले में 1991 के एक्ट का जिक्र तो बहुत है, लेकिन उसमें भी एक दिक्कत है...जानिए क्या है अपवाद नियम

यह सुनकर बृहस्पति देव ने कहा, हे देवी, आप बहुत अजीब हैं, संतान और धन के कारण, कोई दुखी है। धन अधिक हो तो शुभ कार्यों में उपयोग करें, अविवाहित कन्याओं की शादी कराएं, विद्यालय व उद्यान बनवाएं, जिससे दोनों की दुनिया सुधरेगी। लेकिन रानी साधु के इन शब्दों से खुश नहीं थी। उन्होंने कहा कि मुझे ऐसे पैसों की जरूरत नहीं है, जो मैं दान कर सकूं और इसे संभालने में मेरा सारा समय बर्बाद हो जाता है.

तब साधु ने कहा, यदि आपकी ऐसी कोई इच्छा है, तो जैसा मैं कहूं वैसा ही करना। गुरुवार के दिन आप घर को गाय के गोबर से ढँक दें, पीली मिट्टी से अपने बाल धोएँ, राजा से मुंडवाने के लिए कहें, खाने में मांस और शराब का इस्तेमाल करें, धोबी में कपड़े धोएँ। सात गुरुवार को ऐसा करने से आपकी सारी संपत्ति नष्ट हो जाएगी। यह कह कर बृहस्पति देव ऋषि के रूप में उत्सुक हो गए।

इसे भी पढ़ें..  रामायण कथा: जिसका वद्य किया उसने ही प्रभु के चरणों में अपने बेटे को सौंप दिया गया! रामायण की यह कहानी दिलचस्प है

साधु के अनुसार रानी को बताई गई बातों को पूरा करते हुए केवल तीन गुरुवार ही गुजरे थे कि उनकी सारी संपत्ति और संपत्ति नष्ट हो गई थी। राजा का परिवार भोजन के लिए तरसने लगा। फिर एक दिन राजा ने रानी से कहा कि हे रानी, ​​तुम यहीं रहो, मैं दूसरे देश में जाता हूं, क्योंकि यहां सब मुझे जानते हैं। इसलिए मैं कोई छोटा काम नहीं कर सकता। यह कहकर राजा दूसरे देश चला गया। वहाँ वह जंगल से लकड़ी काटकर नगर में बेच देता था। इस तरह वह अपना जीवन जीने लगा। इधर राजा के विदेश जाते ही रानी और दासी दुखी रहने लगे।