T20 World Cup for India'

भारत के लिए टी20 वर्ल्ड कप जीतना चाहता हूं’, फॉर्म में लौटते ही विराट कोहली ने बताया अपना अगला टारगेट

कोहली को मैच से पहले ही एहसास हो गया था कि वह इस मैच में बड़ी पारी खेलने वाले हैं। गुजरात के खिलाफ मैच से पहले ही उन्होंने कहा था कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप को जीतना चाहते हैं।

आईपीएल इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विराट कोहली ने आईपीएल 2022 में गुजरात टाइटंस के खिलाफ अर्धशतक बनाकर फॉर्म में वापसी के संकेत दिए हैं। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बल्लेबाज कोहली ने 8 चौकों और 2 छक्को की मदद से 54 गेंद पर 73 रन की तूफानी पारी खेली। गुजरात टाइटंस के खिलाफ गुरुवार। विराट ने गुजरात को आठ विकेट से रौंदकर प्लेऑफ में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखा है।

Want to win T20 World Cup for India’

बतौर कप्तान कोहली ऐसा नहीं कर पाए, लेकिन एक बल्लेबाज के तौर पर उनका सपना सच हो सकता है और गुजरात के खिलाफ अर्धशतक लगाने के बाद उनका आत्मविश्वास और बढ़ गया है। कोहली को मैच से पहले ही एहसास हो गया था कि वह इस मैच में बड़ी पारी खेलने वाले हैं। गुजरात के खिलाफ मैच से पहले ही उन्होंने कहा था कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप को जीतना चाहते हैं।

मैच से पहले कोहली ने ‘स्टार स्पोर्ट्स’ से बातचीत में कहा, ‘मुझे पता है कि जब रन बनाना शुरू करेंगे तो मुझे प्रेरणा मिलेगी। मैं भारत के लिए एशिया कप और टी20 विश्व कप जीतना चाहता हूं और यही मेरी प्रेरणा है। मुझे संतुलन बनाए रखने के लिए चलते रहना होगा। मैं थोड़ा आराम करूंगा और खुद को तरोताजा करूंगा। एक बार मेरी एकाग्रता आ गई तो मैं पीछे मुड़कर नहीं देखूंगा। अब मेरा मुख्य लक्ष्य भारत के लिए एशिया कप और टी20 वर्ल्ड कप जीतना है और मैं टीम के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं।

Want to win T20 World Cup for India’
इसे भी पढ़ें..  Virat Kohli: बेहद दर्द भरे दौर से गुजर रहे विराट कोहली, अपने इस बड़े खुलासे से मचा दी सनसनी

टीम इंडिया के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री समेत कई दिग्गज पहले ही कह चुके हैं कि कोहली काफी परिपक्व हैं और उन्हें खुद को तरोताजा करने के लिए क्रिकेट से ब्रेक लेना चाहिए। कोहली ने कहा, ‘यह ज्यादा लोगों ने नहीं कहा है। एक व्यक्ति हैं, रवि भाई, जिन्होंने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि वह मुझे पिछले 6-7 वर्षों में बहुत अच्छी तरह से जानते हैं। वे मेरी वास्तविक स्थिति से अवगत हैं। मुझ पर सात साल तक कप्तानी करने और करीब 10 से 11 साल तक नॉन-स्टॉप क्रिकेट खेलने का दबाव था।